Wednesday, 24 October 2012

तांका(जय माँ अम्बे)





अम्बे भवानी
कलुष निवारणी
भय हारणी
मोह-माया तारणी
मुंड-माला धारणी|


शताक्षी,आर्या
शाम्भवी, भव्या,क्रूरा
साधवी,माया 
आद्या, शक्ति स्वरूपा 
नमो नमः हे दुर्गा|

स्वाति वल्लभा राज

3 comments:

  1. आपकी यह सुन्दर रचना दिनांक 18.10.2013 को http://blogprasaran.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    ReplyDelete