Thursday, 12 April 2012

उर्मिला का संताप



है पूजित संसार में, राधा मीरा का प्रेम
सावित्री अनुसुइया बनी, पतिव्रता की हेम|

अनुगामिनी जानकी थी, पति के साहचर्य को
लक्ष्मण संग रहे सदा, भातरी प्रेम वशीभूत हो|


निर्वाहित धर्म सब जन द्वारा
अनुकरणीय पथ, हर पात्र प्यारा|

एक छवि क्यों विस्मित हुई
त्याग की प्रतिमा, उपेक्षित हुई|


क्या मोल उस विरहणी के संताप का
परित्यक्ता एकाकी जीवन के हिसाब का|

क्या सर्वोच्च नहीं  उर्मिला का बलिदान
वो जोगन जिसने दिया त्याग का दान|

हर पल विरह की आग में जलती
तथापि भाव शुन्य न होती|

त्याग की कुंड में खुद को होम करती,
उर्मिला, तेरे मौन साधना को नमन  करती|




swati vallabha raj

3 comments:

  1. त्याग की कुंड में खुद को होम करती,
    उर्मिला, तेरे मौन साधना को नमन करती|... बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  2. उर्मिला का जीवन स्वयं एक अनुपम तप है... वाकई.. मौन साधना को नमन!

    ReplyDelete