Tuesday, 26 June 2012

चोका


चोका [ लम्बी कविता] पहली से तेरहवीं शताब्दी में जापानी काव्य विधा में  महाकाव्य की  कथाकथन शैली रही है । प्राय: वर्णनात्मक रहा है । इसको एक ही कवि रचता है।इसका नियम इस प्रकार  है -

5+7+5+7+5+7+5+7+5+7+5+7+5+7+5+7+5+7+5+7 और अन्त में +[एक ताँका जोड़ दीजिए।] या यों समझ लीजिए कि  समापन करते समय  इस क्रम के अन्त में  7 वर्ण की एक और पंक्ति जोड़ दीजिए । 
इनका कुल पंक्तियों का योग सदा विषम संख्या    ही होगा  ।




नारी जीवन
फटी औ बदरंग
कोरी अधूरी
चुनर में लिपटी
मृतप्राय सी
सिसकती रहती
ये देखकर,
है आज भी अबला
शक्ति की पुंज,
कोख में हीं मरती
प्राण  दायिनी,
नहीं चढ़ती सिर्फ
दहेज-बलि
हर पल चढ़ती
अग्नि वेदी पे
बढती तो फिर भी
अग्नि पथ पे
पर धूमिल औ हैं
सुसुप्त एहसास|

स्वाति वल्लभा राज

9 comments:

  1. ek nayapan liye hue....bahdiya prayas

    ReplyDelete
  2. बहुत सटीक और सुंदर रचना

    ReplyDelete
  3. शक्ति की पुंज,
    कोख में हीं मरती

    बहुत विसंगतियाँ हैं, सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  4. सुंदर रचना

    ReplyDelete
  5. बढती तो फिर भी
    अग्नि पथ पे
    पर धूमिल औ हैं
    सुसुप्त एहसास|
    झंझकोरती एहसास !

    ReplyDelete