Friday, 23 December 2011

सब्र का बाँध


टूट गया फिर इक दर्द से ही,
क्या करें सब्र का बाँध ही तो है|
उफन पड़ी फिर अश्रु नदियाँ,
पगली,जिद्दी,नादान हीं तो  है|

प्रहार किये बारम्बार जो
दर्द के कटार ने,
रक्त साखी टपक पड़ा स्वपन
मासूम,कमजोर,अनजान हीं तो है|


रौनक कैसे आएगी मुख पे,
हरियाली कैसे छाएगी?
चहुँ  ओर दर्द का आनन
वो भी बंजर बियाबान हीं  तो है|

जो देखा परिंदों को चुगते.उड़ते हुए,
बेफिक्र हो गगन में विचरते हुए|
और पाँख खोलें स्वयं के तो
पाया वो  मृत.भयावह,श्मशान हीं तो है|


आस लगी दिल में की रोऊँ
पर पीर घनेरी कम लगी|
आज उन्मुक्त बह चले ये
मनः वेग अंधड़ सामान हीं तो है|

दुबोएंगी कितनो को ये
आज इस प्रवाह में
बेपरवाह है तत्काल ये
उलझी,उपेक्षित परेशान हीं तो हैं|

स्वाति वल्लभा राज



12 comments:

  1. very nice....dil ke jajbato ka jwaar...sandaar:)

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रचना, आभार.
    मेरे ब्लॉग पर भी पधार कर अनुगृहीत करें.

    ReplyDelete
  3. दर्द को बेइन्तिहाँ जिया है इस रचना में ...

    जो देखा परिंदों को चुगते.उड़ते हुए,
    बेफिक्र हो गगन में विचरते हुए|
    और पाँख खोलें स्वयं के तो
    पाया वो मृत.भयावह,श्मशान हीं तो है|

    बहुत खूबसूरती से लिखा है ..

    मेरे ब्लॉग पर आने का आभार

    ReplyDelete
  4. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 29 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... जल कर ढहना कहाँ रुका है ?

    ReplyDelete
  5. आस लगी दिल में की रोऊँ
    पर पीर घनेरी कम लगी|
    आज उन्मुक्त बह चले ये
    मनः वेग अंधड़ सामान हीं तो है|

    अंदर तक छू गईं यह पंक्तियाँ।


    सादर

    ReplyDelete
  6. वाह ...भावमय करते शब्‍दों का संगम ।

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया....
    अच्छी रचना..

    ReplyDelete
  8. bahut sundar bhavmayi rachana hai....

    ReplyDelete
  9. गहरी अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  10. भावपूर्ण रचना बहुत सुन्दर आभार

    ReplyDelete
  11. PAHLI BAAR APKE BLOG PAR AANA HUA. APKO PADHNA ACCHHA LAGA. SASHAKT LEKHAN.

    ReplyDelete
  12. नमनाक नजारे खींचती गहरी रचना.

    ReplyDelete