Monday, 13 February 2012

ठगा सा प्यार!




यूँ हीं कल नींद उचट गयी
वक्त देखा तो १२ बज रहे थे|
थोड़ी बेचैनी सी लगी तो
बाहर निकल आई|
                                                       
क्षात्रवास के प्रांगण में 
मंदिर के समीप सुगबुगाहट थी कुछ| 
सहसा आवाज़ आई पुच्च”,
कौतुकता ने घेर लिया|                                                       
                                                                                             
                                              
समीप गई तो देखा
दूरभाष पर ही चुम्बन की झड़ी थी|
मुझे देख थोड़ा घबराई मगर
निर्लाज्त्ता से कहा,
दी! haappy kiss डे! 
मैं निरुत्तर सी वापस मुड गई|

स्वाति वल्लभा राज

6 comments:

  1. कल 14/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. :) ॥ आज कल शायद यह आम बात है ...

    ReplyDelete
  3. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete